Wednesday, 19 May 2021

Cryptocurrency

 

1.What is cryptocurrency?

A cryptocurrency, crypto-currency, or crypto is a digital asset designed to work as a medium of exchange wherein individual coin ownership records are stored in a ledger existing in a form of a computerized database using strong cryptography to secure transaction records, to control the creation of additional coins, and to verify the transfer of coin ownership.

More than 6,700 different cryptocurrencies are traded publicly, according to CoinMarketCap.com



2.What is Bitcoin?

Bitcoin is a cryptocurrency. It is a decentralized digital currency that is based on cryptography. As such, it can operate without the need of a central authority like a central bank or a company. It is unlike government-issued or fiat currencies such as US Dollars or Euro in which they are controlled by the country’s central bank. The decentralized nature allows it to operate on a peer-to-peer network whereby users are able to send funds to each other without going through intermediaries.

 

3. What is Ethereum?

Ethereum is a global, open-source platform for decentralized applications. In other words, the vision is to create a world computer that anyone can build applications in a decentralized manner; while all states and data are distributed and publicly accessible. Ethereum supports smart contracts in which developers can write code in order to program digital value. Examples of decentralized apps (dapps) that are built on Ethereum includes token, non-fungible tokens, decentralized finance apps, lending protocol, decentralized exchanges, and much more.

4.What is Ripple?

Ripple is a privately-held fintech company that provides a global payment solution via its patented payment network called Ripple Network (also known as RippleNet). RippleNet is a payment network that is built on top of Ripple’s consensus ledger, called XRP Ledger (also known as XRPL). Ripple funded the development of the open-source XRP Ledger.

 

Unlike most cryptocurrencies out there that cater to peer-to-peer needs, Ripple was made to connect banks, payment providers and digital asset exchanges, enabling real-time settlement expeditions and lower transaction fees.

5.What is Dogecoin?

Dogecoin is a cryptocurrency based on the popular "Doge" Internet meme and features a Shiba Inu on its logo. Dogecoin is a Litecoin fork. Introduced as a "joke currency" on 6 December 2013, Dogecoin quickly developed its own online community and reached a capitalization of US$60 million in January 2014. Compared with other cryptocurrencies, Dogecoin had a fast initial coin production schedule: 100 billion coins were in circulation by mid-2015, with an additional 5.256 billion coins every year thereafter. As of 30 June 2015, the 100 billionth Dogecoin had been mined.

 

Dogecoin was created by Billy Markus from Portland, Oregon and Jackson Palmer from Sydney, Australia. Both wanted to create a fun cryptocurrency that will appeal beyond the core Bitcoin audience. Dogecoin is primarily used as a tipping system on Reddit and Twitter where users tip each other for creating or sharing good content. The community is very active in organising fundraising activities for deserving causes.

 

The developers of Dogecoin haven’t made any major changes to the coin since 2015. This means that Dogecoin could get left behind and is why Shibas are leaving Dogecoin to join more advanced platforms like Ethereum. One of Dogecoin strengths is its relaxed and fun-loving community. However, this is also a weakness because other currencies are way more professional.

 

To purchase Dogecoin, it involves downloading a crypto wallet, setting up a crypto exchange account and then trading away for your desired crypto currency. Once we have set up an account with a DOGE currency exchange and deposited some funds, you are ready to start trading.

Other  Cryptocurrency:-

 

·       Ethereum (ETH)

·       Litecoin (LTC)

·       Cardano (ADA)

·       Polkadot (DOT)

·       Bitcoin Cash (BCH)

·       Stellar (XLM)

·       Chainlink.

·       Binance Coin (BNB)

Saturday, 15 May 2021

Anti Covid-19 Vaccination: Booking Procedure , Documents, Vaccine

 

 

1.   How to register for Covid-19 vaccination on Aarogya Setu app?

 


·         Open 'Aarogya Setu' app

·         Click on the CoWin tab on home screen

·         Select 'Vaccination Registration' and enter mobile number

·         You ll receive an OTP on your mobile, enter it on site

·         Once your mobile number is verified, enter your details and click 'Register'

·         To schedule an appointment, click on 'Schedule' next to person's name

·         An SMS on your registered mob number will be sent with appointment details

 

2.   What documents are required for the registration?



·         Aadhaar Card

·         Passport

·         Driving License

·         Election Commission ID Card

·         Income Tax PAN Card

·          

3.   Covid Vaccine

·        Covishield

The Oxford-AstraZeneca vaccine, which is being manufactured by the Serum Institute of India in Pune.

·        Covaxin

Bharat Biotech’s Covaxin was also given the nod by the Drugs Controller    General of India.

·        Intranasal

Another one developed by Bharat Biotech and the firm has assured to provide 10 crore doses of its intranasal vaccine BBV154.

·        Sputnik V vaccine

The Russia-developed Sputnik V vaccine  is being marketed by Dr. Reddy’s Laboratories in India

·        Novavax

The American pharmaceutical company in partnership with Serum Institute of India will be supplying covid-19 vaccine NVX-CoV2373 named Covovax this year.

·        Zydus Cadila

The Ahmedabad-based pharmaceutical company has been authorised to provide its ZyCoV-D COVID vaccine.

·        Biological E

Biological E Limited (BE) has received emergency authorisation for its protein subunit BECOV2A vaccine.

·        Gennova

The Centre has given approval to the Pune-based Gennova Biopharmaceuticals to provide vaccine doses against COVID-19.

Friday, 14 May 2021

Mucormycosis(ब्लैक फंगल) को वो लोग जरूर जाने जिसके घर डायबिटीज, कैंसर या HIV के मरीज है(what is black fungus)

कोरोना की दूसरी लहर पूरे भारत में फैल चुकी है और यह लहर पहली लहर से बहुत अधिक हानिकारक है दूसरी लहर में बहुत सारे लोगों ने अपनो को खोया हैं देश ऑक्सीजन की कमी और इस महामारी से जूझ ही रहा था कि एक नया संकट देश में आ गया है चाहिए जानते है क्या है ये - 


म्यूकरमायकोसिस(Mucormycosis)

 जिसे ब्लैक फंगल के नाम से भी जाना जाता है स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने इसको लेकर रिसर्च किया और पाया है कि यह ब्लैक फंगल(Black Fungus) जिसको डायबिटीज, कैंसर, एचआईवी की शिकायत है उनमें अधिक तेजी से फैल रहा है  
यह एक तरह का फंगल इंफेक्शन(Fungal Infection)है जो बहुत ही तेजी से शरीर में फैलता है यह इंसान के दिमाग, फेफड़ों और स्क्रीन पर हो सकता है इस बीमारी में बहुत से लोगों ने अपनी आंखों की रोशनी खो दी कुछ मरीजों के जबड़े और नाक की हड्डी अब तक गल चुके हैं


ब्लैक फंगल के लक्षण (Black Fungal Infection Symptoms)

-    बुखार, सिर दर्द, खांसी, सांस लेने में तकलीफ
-    खून की उल्टी, नाक के पास दर्द 
-    स्किन मैं फुंसी या दाने पड़ना
-    आंख में दर्द, धुंधला दिखाई देना और साथ में पेट दर्द


ब्लैक फंगल का इलाज
वैसे तो इस बीमारी का इलाज एंटीफंगल दवाइयों से ही किया जा रहा है लेकिन सबसे खराब बात यह है कि ब्लैक फंगल में जिस अंग में मरीज को परेशानी हो रही है उसकी सर्जरी करनी पड़ रही है यहां तक की उस भाग का ट्रांसप्लांटेशन करना पड़ रहा है देश के प्रमुख डॉक्टरों के अनुसार यह बीमारी डायबिटीज के लोगों को हो सकती हैं इसलिए डायबिटीज को कंट्रोल करें।

प्रभाव (Symptoms)
मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात में इसके मामले सामने आने लगे है अभी तक बहुत से लोग ब्लैक मंगल की चपेट में आ चुके हैं और इनमें से बहुत से लोगों ने अपनी आंखों की रोशनी खो दी है और कुछ मरीजों की सर्जरी भी करनी पड़ी है मध्य प्रदेश में अभी के 100 से ज्यादा मरीज आ चुके हैं
सावधानियां
आप सब से अनुरोध है खास करके उन व्यक्तियों से जो डायबिटीज के मरीज वह अपना विशेष ध्यान रखें और अपनी डायबिटीज को कंट्रोल करके रखें और बाहर आना जाना बंद करे और यदि कहीं भी जाते हैं तो मार्क्स और सैनिटाइजर का प्रयोग जरूर करें।

Sunday, 10 January 2021

जानिए विश्व हिंदी दिवस कब से मनाया जाता है और क्यों

विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाने का प्रमुख उद्देश्य हिंदी भाषा को अंतर्राष्ट्रीय भाषा का दर्जा दिलाने और इसका प्रचार प्रसार करने के लिए मनाया जाता है इस दिवस को हर साल धूमधाम से मनाया जाता है पर इस वर्ष कोविड-19 की वजह से इस समारोह को डिजिटल माध्यम से ही मनाया गया है 

आखिर 10 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस
            वैसे साधारण शब्दों में कहें तो यह दिवस विश्व में हिंदी भाषा को अपनी पहचान दिलाने व उनका प्रचार-प्रसार करने के लिए मनाते हैं और इसके लिए विश्व स्तरीय विश्व हिंदी सम्मेलन की शुरुआत हुई थी जिसका पहला सम्मेलन 10 जनवरी 1975 को नागपुर में आयोजित किया गया था और फिर इसके 31 वर्ष बाद यानी 2006 में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह जी ने 10 जनवरी 2006 को यह घोषणा की कि प्रत्येक बस 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाएगा तब से लेकर आज तक हर वर्ष 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाते हैं

बहुत से लोग विश्व हिंदी दिवस और राष्ट्रीय हिंदी दिवस में अंतर समझ नहीं पाते आइए जानते हैं इस में क्या अंतर है

विश्व विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी 1975 में नागपुर में आयोजित पहले विश्व हिंदी सम्मेलन की याद में मनाया जाता है जबकि राष्ट्रीय हिंदी दिवस 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने हिंदी को आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया था इसलिए 14 सितंबर को राष्ट्रीय हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है

कुछ ऐसे भी देश हैं जिनमें लोग हिंदी बोलते हैं जैसे कि यूनाइटेड किंगडम मॉरीशस त्रिनिदाद एंड टोबैगो यूएसए आदि देश

Saturday, 9 January 2021

जानिए क्यों और कब से मनाया जा रहा है प्रवासी भारतीय दिवस

प्रवासी भारतीय दिवस 9 जनवरी को मनाया जाता है और यह दिवस उन सभी भारतीयों के लिए मनाया जाता है जो विदेश में रहकर अपने देश के विकास के लिए काम करते हैं और साथ ही अपने देश का नाम रोशन कर रहे हैं वैसे तो हर साल प्रवासी भारतीय दिवस को बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है और यह प्रोग्राम 3 दिनों तक चलता है लेकिन इस वर्ष कोविड-19 की वजह से इसे डिजिटल माध्यम से आयोजित किया जा रहा है और यह 16 प्रवासी भारतीय दिवस है 
आखिर 9 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है प्रवासी भारतीय दिवस 
प्रवासी भारतीय दिवस 9 जनवरी को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि महात्मा गांधी 9 जनवरी 1915 को दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे और यह उस समय से लेकर अब तक की सभी प्रवासी भारतीयों में से सबसे प्रमुख व्यक्ति माने जाते हैं क्योंकि इन्होंने देश की आजादी के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और यह भी कह सकते हैं कि अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराया इसलिए इस दिवस को याद करने के लिए गांधी जी के आगमन को वह प्रमुख माना गया है 

प्रवासी भारतीय दिवस का मुख्य उद्देश्य उन प्रवासी भारतीयों को मान्यता देना है जो विदेश में रहकर भी देश के विकास में योगदान कर रहे हैं वैसे पहला प्रवासी भारतीय दिवस 2003 में मनाया गया था 
इस वर्ष प्रवासी भारतीय दिवस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने डिजिटल माध्यम से उद्घाटन कर इस प्रोग्राम को संबोधित किया और इस वर्ष सुरभि प्रवासी दिवस सम्मेलन की थीम आत्मनिर्भर भारत में योगदान है 
प्रवासी भारतीय सम्मान 
यह पुरस्कार भारत के प्रवासी भारतीयों के मामले के मंत्रालय द्वारा हर साल 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस पर उन प्रवासी भारतीयों को दिया जाता है जो अपने क्षेत्र में असाधारण योगदान देकर अपने देश का नाम रोशन कर रहे हैं और यह पुरस्कार इन व्यक्तियों को देश के राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किया जाता है  

Thursday, 7 January 2021

आखिर क्यों नहीं आ रहे ब्रिटेन प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन गणतंत्र दिवस पर भारत?

हमारे देश में सदियों से अपने अतिथियों को भगवान का दर्जा मिला और आज भी यह परंपरा चली आ रही है जब हमारे देश अंग्रेजों का गुलाम था उसके बावजूद भी यह परंपरा चलती रही फिर जब हम जैसे ही अंग्रेजो की गुलामी से मुक्त तो उसके बाद से देश में एक नई पहल चालू की गई थी कि हर गणतंत्र दिवस पर किसी देश के राष्ट्रीय प्रमुख को गणतंत्र दिवस का अतिथि बना कर अपने देश आने का न्योता दिया जाएगा और वह परंपरा आज भी चली आ रही है हर साल की तरह इस साल भी हमारे देश अतिथि के रूप में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को अतिथि के रूप में नरेंद्र मोदी जी ने आमंत्रित किया प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन आमंत्रण को स्वीकार कर आने पर हामी भरी यह न्योता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने दिसंबर में बोरिस जॉनसन को दिया था जैसे ही ब्रिटेन प्रधानमंत्री ने हामी भरी तो हमारे देश के विदेश मंत्री एस जयशंकर में खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह दौरा ब्रिटेन और भारत के लिए एक नए युग की शुरुआत होगा
                  लेकिन कुछ कारणवश ब्रिटेन प्रधानमंत्री ने अचानक मोदी जी को कॉल करके जानकारी दी कि वह गणतंत्र दिवस के समारोह पर आने में असमर्थ हैं आइए जानते हैं कि आखिर किस वजह से नहीं आ पा रहे ब्रिटेन प्रधानमंत्री भारत-
         ब्रिटेन प्रधानमंत्री डोरस जॉनसन ने मोदी जी को कॉल करके जानकारी दी कि ब्रिटेन में नया कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है और जिसके चलते लॉकडाउन करना पड़ा और यह भी कहा कि फरवरी के मध्य तक नया नेशनल लॉक डाउन करने की तैयारी है इस स्थिति में विदेश के नागरिकों को छोड़कर जाना सही नहीं समझते इसलिए ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने गणतंत्र दिवस पर आने से मना किया 
इतिहास -  सबसे पहले यह पहल 1950 में चालू की गई जब उसके समय इंडोनेशिया के तत्कालीन राष्ट्रपति सुकर्णो देश के पहले अतिथि बन कर भारत आए तब से लेकर आज तक यह परम्परा चलती आ रही है बस 1952,1953 व 1966 में किसी भी देश के राष्ट्रप्रमुख को नहीं बुलाया गया .

      

Wednesday, 6 January 2021

आइए जानते हैं देश के नए संसद भवन के बारे में यह कब तक बनेगा और इसे कौन बनाएगा

आप सभी ने यह सुना तो होगा जरूर कि देश में जल्द ही नया संसद भवन बनने जा रहा है और इसके साथ साथ ही उसके आसपास के पुराने भवनों का भी  पुनः उद्धार होना है आइए जानते हैं इस सारे प्रोजेक्ट को कैसे और कब तक पूरा किया जाएगा 
        सबसे पहले  आपन जानते हैं इस प्रोजेक्ट के बारे में जिस प्रोजेक्ट के तहत नए संसद भवन के साथ-साथ और भी बहुत से आसपास के भवनों का पुनरुद्धार होना है जो सेंट्रल बिस्टा प्रोजेक्ट के अंतर्गत होगा


आइए जानते हैं आखिर सेंट्रल डिस्टर्ब प्रोजेक्ट है क्या 

दिल्ली के राजपथ के दोनों तरफ के इलाके को सेंट्रल विस्टा कहा जाता है इसके तहत राष्ट्रपति भवन,संसद भवन, नॉर्थ ब्लॉक, साउथ ब्लॉक, उप राष्ट्रपति भवन आता है

नेशनल म्यूजियम इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर फॉर आर्ट्स ,उद्योग भवन, बीकानेर हाउस ,हैदराबाद हाउस निर्माण भवन ,जवाहर भवन भी इसी का हिस्सा है और इस सेंट्रल विस्टा री डेवलपमेंट प्रोजेक्ट इस पूरे इलाके को रिनोवेट करने की योजना है इसकी लागत 20 हजार करोड़ के आसपास बताई जा रही है 


अब जानते हैं नए संसद भवन के बारे में

                     हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 10 दिसंबर 2020 को नए संसद भवन की आधारशिला रखी इस भवन का निर्माण सेंट्रल विस्ता प्रोजेक्ट के अंतर्गत किया जाएगा और इसका निर्माण जुलाई 2022 तक पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है नई संसद भवन का आकार त्रिभुजाकार होगा व 4 मंजिला होगा नये संसद भवन में लोकसभा के लिए 888 तथा राज्यसभा के लिए 384 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी तथा संयुक्त सत्र के समय लोक सभा कक्ष में 1224 सदस्य एक साथ बैठते हैं  

क्षेत्रफल-64500 वर्ग फीट
डिजाइन - HCP डिजाइन और प्लैनिंग  
डिजाइनर -विमल पटेल
कांटेक्ट -टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड को (861.90 करोड़) 

जबकि देखा जाए तो पुरानी संसद भवन का निर्माण 1912-13 से शुरू होकर 1927 में इसे पूर्ण रूप से चालू कर दिया गया था और
इसका डिजाइन सर एडविन लुटियन ने तैयार किया था उस समय संसद भवन को बनाने में 83 लाख रुपए खर्च किए गए थे

आइए अब जानते हैं संसद भवन के संवैधानिक तथ्य

भारत में "संसदीय शासन व्यवस्था" ब्रिटेन से ली गई है और इसके गठन का प्रावधान भारतीय संविधान के अनुच्छेद- 79 से लिया गया है संसद के दोनों सदन में से राज्यसभा का गठन अनुच्छेद -80 से व लोकसभा का गठन अनुच्छेद -81 में प्रावधान दिया गया है वर्तमान में लोकसभा सदस्यों की संख्या 545 तथा राज्यसभा में सदस्यों की संख्या 245 है वर्तमान में संसद के दो साधन है लोकसभा और राज्यसभा तथा संसद के तीन अंग है राष्ट्रपति राज्यसभा और लोकसभा लोकसभा और राज्यसभा के सदस्यों का कार्यकाल क्रमशः 5 वा 6 वर्ष होता है तथा इनकी आयु क्रमशः 25 वा 30वर्ष होनी चाहिए

Monday, 14 December 2020

Freelancer Work From Home

 

What is a Freelancer?

A person who works or pursues a career without a long term contract with any particular employer is a freelancer. He offers services to get paid without permanent affiliation with his clients. A freelancer may perform tasks for several employers, clients or customers at any given time frame. Some freelancers work with written contracts but more often are not necessary. Others would settle for verbal agreements with their clients.




When do you call someone a freelancer? Who is considered a freelancer?

A person who works or pursues a career without a long term contract with any particular employer is a freelancer. He offers services to get paid without permanent affiliation with his clients. A freelancer may perform tasks for several employers, clients or customers at any given time frame. Some freelancers work with written contracts but more often are not necessary. Others would settle for verbal agreements with their clients.

If you are a freelancer you may work part time or full time. You cannot consider yourself to be an employee because you work for an employer without benefits, health insurance, paid holidays, bonuses and other benefits that a regular employee is entitled to. There is no limit to working hours which always extend beyond the regular schedules.

Some freelancers work for the same client for an extended period likely because their works are good enough for the clients’ interests. They are called “permalancers”; with full time work as a regular employee but without the benefits of one.

Payments vary according to the settled terms of agreement between the client and the freelancer. It is possible for a client to pay per hour, per day, or per project. For example, a writer can charge a fee per page of what he writes. You can demand for a deposit from customers and sometimes provide customers with job estimates.

Areas of work: There are countless of fields and areas which can showcase a freelancer’s skill and talent. Here are some:
 

  • Journalism
  • Book publishing
  • Writing
  • Editing
  • Copyediting
  • Proofreading
  • Indexing
  • Copywriting
  • Computer Programming
  • Graphic design
  • Business consulting
  • Translating
  • Language teaching and translation
  • Secretarial

The common areas for freelancers are software development, website design and development, advertising and Information technology. A substantial career is waiting for designers, bloggers and social media experts. Areas that have skills shortages prefer outsourcing freelancers’ services and they benefit from their input. Freelancers often occupy media roles.

Freelancing
is basically an optimistic work even in an economic downturn. Most people come to web work because they have no other choices. Somebody may have been transferred to a remote working area at his present job or an existing contract is about to finish and finding another full time job isn’t easy. One must be able to define his capabilities and weaknesses before diving into this kind of business. 

As you go along you can choose the projects and revolve around the area of your expertise. As the prefix says ‘free’ you manage your own time, type and place of work which makes freelancing a very appealing field of work.

Here are some helpful websites for both freelancers and clients:


  • www.freelancer.in
  • Odesk.com
  • www.fiverr.com
  • www.upwork.com
  • www.guru.com

 

Sunday, 4 October 2020

atal surang (अटल सुरंग)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 03 अक्टूबर 2020 को हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण अटल सुरंग (Atal Tunnel) का उद्घाटन किया. अटल सुरंग दुनिया की सबसे लंबी राज
मार्ग सुरंग है. इस सुरंग के कारण मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो जाएगी और यात्रा का समय भी चार से पांच घंटे कम हो जाएगा.
प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया की सबसे लंबी हाइवे टनल 'अटल सुरंग' का उद्घाटन किया है. अब यह टनल आम लोगों की आवाजाही के लिए खुल जाएगी. इस मौके पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और हिमाचल प्रदेश के मुख्‍यमंत्री जय राम ठाकुर भी मौजूद रहे. यह सुरंग भारत और चीन की सीमा से ज्‍यादा दूर नहीं है इसलिए रणनीतिक रूप से भी बेहद अहम है.

प्रधानमंत्री ने क्‍या कहा?
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज सिर्फ अटल जी का ही सपना नहीं पूरा हुआ है, आज हिमाचल प्रदेश के करोड़ों लोगों का भी दशकों पुराना इंतजार खत्म हुआ है. मेरा सौभाग्य है कि मुझे आज अटल टनल के लोकार्पण का अवसर मिला है.

अटल सुरंग के बारे में
अटल सुरंग दुनिया में सबसे लंबी राजमार्ग सुरंग है. 9.02 किलोमीटर लंबी सुरंग मनाली को वर्ष भर लाहौल स्पीति घाटी से जोड़े रखेगी. पहले घाटी करीब छह महीने तक भारी बर्फबारी के कारण शेष हिस्से से कटी रहती थी. हिमालय के पीर पंजाल पर्वत श्रृंखला के बीच अत्याधुनिक विशिष्टताओं के साथ समुद्र तल से लगभग तीन हजार मीटर की ऊंचाई पर सुरंग को बनाया गया है.

अटल सुरंग का दक्षिणी पोर्टल मनाली से 25 किलोमीटर की दूरी पर 3,060 मीटर की ऊंचाई पर बना है, जबकि उत्तरी पोर्टल 3,071 मीटर की ऊंचाई पर लाहौल घाटी में तेलिंग, सीसू गांव के नजदीक स्थित है. अटल सुरंग का डिजाइन प्रतिदिन तीन हजार कारों और 1500 ट्रकों के लिए तैयार किया गया है जिसमें वाहनों की अधिकतम गति 80 किलोमीटर प्रति घंटे होगी.

वाजपेयी सरकार में रखी गई थी नींव
वाजपेयी सरकार ने रोहतांग दर्रे के नीचे सामरिक रूप से महत्वपूर्ण इस सुरंग का निर्माण कराने का निर्णय किया था. सुरंग के दक्षिणी पोर्टल पर संपर्क मार्ग की आधारशिला 26 मई 2002 को रखी गई थी. मोदी सरकार ने दिसंबर 2019 में पूर्व प्रधानमंत्री के सम्मान में सुरंग का नाम अटल सुरंग रखने का निर्णय किया था.

MS Dhoni retirement

भारत के दिग्‍गज विकेटकीपर बल्‍लेबाज महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. उन्‍होंने आर्मी अंदाज में इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर करके इसकी घोषणा की. धोनी ने अपने पूरे सफर का एक वीडियो शेयर किया. अब भारतीय क्रिकेट टीम के लिए धोनी खेलते हुए नहीं दिखाई देंगे. हालांकि एमएस धोनी आईपीएल खेलते रहेंगे
 
.
महेंद्र सिंह धोनी ने इंस्टाग्राम में पोस्ट कर खुद के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का घोषणा किया है. अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में एमएस धोनी ने लिखा है, 'आप सभी के प्यार और समर्थन के लिए बहुत धन्यवाद. आज शाम 7.29 बजे के बाद से मुझे रिटायर समझा जाए.' अपने इस पोस्ट के साथ ही धोनी ने एक वीडियो भी शेयर किया है.

आईसीसी की तीनों ट्रॉफी जीतने वाले दुनिया के एक मात्र खिलाड़ी एमएस धोनी ही है जिन्होंने तीनों ट्रॉफी जीती और साथ ही इंडियन क्रिकेट को बहुत ऊपर उठाया है 

 
 आईपीएल खेलते रहेंगे
 
धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा है, मगर वह आईपीएल खेलते रहेंगे. कुछ दिन पहले ही चेन्‍नई सुपर किंग्‍स के सीईओ ने कहा था कि धोनी आईपीएल साल साल 2020 और 2021 आईपीएल खेलते रहेंगे और जहां तक होगा साल 2022 में भी नजर आएंगे.

टेस्ट क्रिकेट से पहले ही संन्यास ले चुके थे
 
एमएस धोनी टेस्ट क्रिकेट से पहले ही संन्यास का घोषणा कर चुके थे. हालांकि वनडे और टी-20 में भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा बने हुए थे. लेकिन अब धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया है. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को दिन में ही धोनी ने संन्यास की चिट्ठी लिख दी थी. धोनी क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में टीम इंडिया के कप्तान भी रह चुके हैं.


सौरव गांगुली ने क्या कहा?
बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास लेने के बाद इसे एक युग का अंत बताया है. वहीं धोनी के रिटायरमेंट के बाद सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट के जरिए अपनी भावनाएं व्यक्त की है.

साल 2011 का विश्व कप दिलाया
 
महेंद्र सिंह धोनी विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर जाने जाते हैं. धोनी सबसे सफल भारतीय विकेटकीपर भी हैं. उन्होंने टेस्ट में 294, वनडे में 444 और टी-20 में 91 शिकार अपने नाम किए हैं. इसके अतिरिक्त अपनी कप्तानी में धोनी ने भारत को क्रिकेट में साल 2011 में फिर से विश्व विजेता भी बनाया था.
 
इसके अतिरिक्त साल 2007 में धोनी की कप्तानी में ही टीम इंडिया ने टी20 विश्वकप अपने नाम किया था.


धोनी: एक नजर में
 
एमएस धोनी ने साल 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी. धोनी ने अब तक 90 टेस्ट मैच खेले हैं. इसके अलावा 350 एकदिवसीय और 98 टी-20 मुकाबलों में उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया है. टेस्ट मैचों में धोनी ने 6 शतक लगाए हैं तो वहीं वनडे में धोनी के नाम 10 शतक दर्ज हैं.

 
धोनी एक आक्रामक सीधे हाथ के बल्लेबाज और विकेट-कीपर रहे हैं.  धोनी उन विकेटकीपर्स में से एक है. जिन्होंने जूनियर व भारत के ए क्रिकेट टीम से चलकर राष्ट्रीय टीम में स्थान बनाया. धोनी, अपने दोस्तों में माही के नाम से जाने जाते हैं. धोनी ज्यादातर बैकफ़ुट में खेलने और मज़बूत बॉटम हैंड ग्रिप होने के वजह से जाने जाते रहे हैं.

धोनी का आखिरी मैच
 
धोनी ने आखिरी इंटरनेशनल मैच पिछले  साल में जुलाई को न्‍यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्‍ड का सेमीफाइनल खेला था. टेस्ट मैचों में धोनी ने 6 शतक लगाए हैं तो वहीं वनडे में धोनी के नाम 10 शतक दर्ज हैं. विश्व कप के बाद एमएस धोनी ने सैन्य ट्रेनिंग में भी हिस्सा लिया था. ट्रेनिंग के दौरान भी एमएस को लेकर लगातार चर्चा होती रही कि माही टी20 वर्ल्ड कप में खेलेंगे या नहीं.

 फिल्डिंग सजाने में भी कोई धोनी से सीखे क्युकी इनका दिमाग हर प्लयेर के लिए अलग अलग तरह से फिल्डिंग सजाने में चलता था बो हर खिलाड़ी के लिए अलग अलग प्लान बनते थे और उनको शांत रह कर ही ये सब कुछ करने में माहिर थे। अब गेदबाज से केसे बॉलिंग करवानी है ये भी कोई माही से सीखे क्युकी किसी बॉलर से उसका 100% लेना बो सिर्फ और सिर्फ धोनी ही कर सकते है।

 
पुरस्कार-सम्मान
 

महेंद्र सिंह धोनी पद्म भूषण, पद्म श्री और राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित क्रिकेट खिलाड़ी हैं. वे भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और भारत के सबसे सफल एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय कप्तान रह चुके हैं.

 
सेना से लगाव को देखते हुए आर्मी ने उन्हें मानद लेफ्टिनेंट कर्नल का ओहदा दिया. उन्हें विस्डन की सर्वप्रथम ड्रीम टीम में कप्तान चुना गया था.
 

स्टंपिंग करने में उनका कोई जवाब नहीं था यदि खिलाडी जो बैटिंग कर रहा है और उसको पता है कि पीछे एमएस धोनी है तो उसको अपने पर उठने के लिए भी सोचना पढ़ता था क्युकी धोनी किसी खिलाड़ी को चांद सेकंड में आउट कर देते थे विश्व के सबसे कम समय में स्टंपिंग करने के सारे रिकॉर्ड एमएस धोनी के नाम ही है

NEW POST

Cryptocurrency

  1.What is cryptocurrency? A cryptocurrency, crypto-currency, or crypto is a digital asset designed to work as a medium of exchange where...